Bonus Share Meaning in Hindi

इक्विटी बाजार में, बोनस शेयर एक बहुत ही लोकप्रिय शब्द है। जिसे अक्सर हम न्युज में सुनते रहते है। तो आज इस लेख में हम विस्तार से समझेंगे Bonus Share Meaning in Hindi. तो चलिए शुरु करते है। 

बोनस शेयर क्या है? 

किसी कंपनी के द्वारा अपने मौजूदा शेयरधारकों को दिया जाने वाले मुफ्त शेयर, बोनस शेयर के रूप में जाने जाते है। बोनस शेयरों के मुद्दे को बोनस इश्यू या स्क्रिप इश्यू या कैपिटलाइज़ेशन इश्यू कहा जाता है।

बोनस शेयर बिना किसी अतिरिक्त लागत के शेयरधारकों को दिए गए अतिरिक्त शेयर हैं। ये कंपनी की कमाई है जो लाभांश के रूप में नहीं दी जाती है, बल्कि मुक्त शेयरों में परिवर्तित कर अपने शेयर धारको को दी जाती है। उदाहरण के लिए, यदि एवीसी कंपनी 1:1 बोनस इश्यू की घोषणा करती है, तो प्रत्येक शेयरधारक को उसके प्रत्येक शेयर के लिए एक शेयर मुफ्त मिलता है।

मानलो एक शेयरधारक के पास कंपनी के 100 शेयर हैं, तो उसे 100 बोनस शेयर प्राप्त होंगे, फिर उसके पास एवीसी कंपनी के कुल 200 शेयर हो जायेंगे। 

एक बोनस इश्यू केवल स्वामित्व और जारी किए गए शेयरों को बढ़ाता है; यह न तो कंपनी के मूल्यांकन को बढ़ाता है और न ही प्रत्येक मौजूदा शेयरधारक के स्वामित्व वाले शेयरों के अनुपात को बदलता है। क्योंकि इसमें कोई नकदी प्रवाह शामिल नहीं है, इसलिए बोनस इश्यू केवल कंपनी की शेयर पूंजी बढ़ाता है, न कि शुद्ध संपत्ति।

बोनस शेयर आम तौर पर कंपनी के नकद भंडार के पुनर्गठन के लिए जारी किए जाते हैं। जैसे ही एक कंपनी मुनाफा कमाती है, उसकी नियोजित पूंजी बढ़ जाती है। यह कंपनी तब जारी पूंजी को नियोजित पूंजी के संदर्भ में लाने के लिए बोनस शेयर जारी कर सकती है।

एक बोनस इश्यू शेयर बाजार में कंपनी के कुल शेयरों को बढ़ाता है। जैसे मानलो 1:1 इश्यू के साथ, 1000 शेयरों वाली एवीसी कंपनी के पास अब अतिरिक्त 1000 शेयर जारी होंगे। इसका मतलव है कि अव एवीसी कंपनी के पास कुल 2000 शेयरों हो जायेंगे।, इस प्रकार बोनस इश्यू कंपनी की इक्विटी को कम करता है।

बोनस शेयर जारी करने के बाद, प्रति शेयर आय (ईपीएस = शुद्ध लाभ / शेयरों की संख्या) गिर जाती है। हालांकि, इसके बाद शेयरों की संख्या में वृद्धि से इसकी भरपाई हो जाती है। तो सिद्धांत यह है, कि शेयरों की संख्या में वृद्धि शेयर की कीमतों में गिरावट के बराबर होती है, लेकिन वास्तविकता में ऐसा हमेशा नहीं होता है। 

बोनस शेयर एक कंपनी के अच्छे स्वास्थ्य की ओर इशारा करता हैं। इसका मतलव यह है कि कंपनी अतिरिक्त इक्विटी को financed करने के लिए मजबूत हो जाती है। यह एक कंपनी के मुनाफे को बढ़ाने और हर बढ़े हुए शेयरों पर लाभांश देने के भरोसे को दर्शाता है।


कंपनियां बोनस शेयर क्यों जारी करती हैं?

बोनस शेयर शेयर मार्केट में लिस्टेड एक कंपनी के द्वारा जारी किए जाते हैं जब वह उस तिमाही के लिए अच्छा लाभ अर्जित करने के बावजूद धन की कमी के कारण अपने शेयरधारकों को लाभांश का भुगतान करने में सक्षम नहीं होते है। ऐसे में कंपनी डिवीडेंट देने के बजाय अपने मौजूदा शेयरधारकों को बोनस शेयर जारी करती है। ये बोनस शेयर मौजूदा शेयरधारकों को कंपनी में उनकी मौजूदा होल्डिंग के आधार पर दिए जाते हैं। मौजूदा शेयरधारकों को बोनस शेयर मिलना मुनाफे का संकेत है क्योंकि यह कंपनी के मुनाफे या भंडार में से दिया जाता है।

जब कोई कंपनी बोनस शेयर जारी करती है, तो इसके साथ “रिकॉर्ड तिथि” शब्द का प्रयोग किया जाता है। आइए अब हम शब्द के मतलव के बारे में जानें।

रिकॉर्ड तिथि क्या है? 

रिकॉर्ड तिथि किसी कंपनी द्वारा निर्धारित एक कट-ऑफ तिथि होती है। यदि आप इस कट-ऑफ तिथि पर कंपनी के शेयरों के मालिक हैं तो आप बोनस शेयर प्राप्त करने के पात्र हैं। कंपनी द्वारा एक रिकॉर्ड तिथि निर्धारित की जाती है ताकि वे पात्र शेयरधारकों को ढूंढ सकें और उन्हें बोनस शेयर दे सकें।

एक्स-डेट क्या है?

एक्स-डेट, रिकॉर्ड डेट से एक दिन पहले की होती है। यहां निवेशक को बोनस शेयरों के लिए पात्र बनने के लिए एक्स-डेट से कम से कम एक दिन पहले शेयर खरीदना पड़ता है। तभी वह बोनस शेयरों के लिए पात्र के लिए होगा।

आइए अब बोनस शेयरों के फायदों के बारे में जानते है।


बोनस शेयरों के फायदे 

  • बोनस शेयर कंपनी की तरफ से फ्री दिया जाता है इसलिए निवेशकों को कोई कर देने की आवश्यकता नहीं है।
  • यह कंपनी के लम्बी अवधि के शेयरधारकों के लिए बहुत फायदेमंद है जो अपना निवेश बढ़ाना चाहते हैं।
  • बोनस शेयर किसी कंपनी के संचालन में निवेशकों के विश्वास को बढ़ावा देते हैं क्योंकि कोई भी कंपनी अपने व्यवसाय के विकास के लिए नकदी का उपयोग करती है।
  • जब कोई कंपनी भविष्य में डिवीडेंट इशु करती है, तो निवेशक को अधिक लाभांश प्राप्त होगा क्योंकि अब उसके पास बोनस शेयरों के कारण उस कंपनी में ज्यादा शेयर हैं। 
  • बोनस शेयर, शेयर बाजार को सकारात्मक संकेत देते हैं कि कंपनी अपनी लॉन्गटर्म ग्रोथ पर फोकस कर रही है। 
  • बोनस शेयर की बजह से कंपनी में शेयरों की बढ़ोतरी होती है जिस कारण से स्टॉक की लिक्विडिटी भी बढती हैं।

क्या बोनस शेयर निवेशकों के लिए अच्छे है?

जब कोई कंपनी बोनस शेयर जारी करती है तो उसकी शेयर पूंजी बढ़ जाती है, यानि की कंपनी में शेयरों की संख्या ज्यादा हो जाती है जिसका फायदा उनके शेयरधारको को भी मिलता है। इसके अलावा, शेयरों की संख्या बढ़ने से स्टॉक की कीमत कम जाती है, जिससे कि रिटेल निवेशकों के लिए स्टॉक अधिक किफायती हो जाता है। इसलिए बोनस शेयर निवेशकों के लिए अच्छे है। 

अभी तक आप Bonus Share Meaning in Hindi लेख में समझ ही गए होंगे कि बोनस शेयर क्या है? और कैसे काम करता है, हमें उम्मीद है कि ये जानकारी आपको जरुर पसंद आयी होगी।


 

Start Learning through Free & Pro Stock Market Courses!

Install Stock Pathsahla and Get Exclusive 20% off on all subscriptions.Use Coupon Code SPWEB20

Install Stock Pathshala App Now

 

error: Oh wait! The content is locked from copying!