IPO Meaning in Hindi

बहुत से नए निवेशक अक्सर ये सोचते है की share market me invest kaise kare, अगर आप भी ऐसा कुछ सोच रहे है तो आईपीओ में निवेश करना एक बेहतरीन विकल्प हो सकता है। आईपीओ में निवेश करना एक स्मार्ट कदम हो सकता है और इसलिए जाने IPO meaning in hindi और स्टॉक मार्केट में निवेश करने की योजना बनाए। 

आईपीओ यानी की इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग (आईपीओ) की प्रक्रिया एक निजी कंपनी को एक सार्वजनिक कंपनी में बदल देती है। यह प्रक्रिया स्मार्ट निवेशकों को अपने निवेश पर अच्छा रिटर्न अर्जित करने का अवसर भी देती है। 

आईपीओ की जानकारी से पहले जानते है की प्राइमरी और सेकेंडरी मार्केट का क्या तातपर्य है:

प्राथमिक बाजार (Primary Market) वह जगह है जहां कंपनी आईपीओ के जरिए अपने शेयर्स को पहली वार बेचती है। यह पहला उदाहरण है जहां निवेशक कंपनी में योगदान करते हैं, और कंपनी की इक्विटी पूंजी प्राथमिक बाजार में स्टॉक बेचकर संचित धन द्वारा बनाई जाती है। एक प्राइवेट प्लेसमेंट का तरीका भी हैं जिसमें आईपीओ के बाद प्राथमिक बाजार में शेयरों को बेचा जा सकता है।

प्राइवेट प्लेसमेंट में, कंपनी बैंकों, हेज फंड जैसे महत्वपूर्ण निवेशकों को स्टॉक की पेशकश कर सकती है। यह आम जनता के लिए शेयर उपलब्ध कराए बिना किया जाता है। 

सेकेंडरी मार्केट को आमतौर पर शेयर बाजार के रूप में जाना जाता है। यह वह जगह है जहां प्राथमिक बाजार में आवंटित किए गए शेयरों को नए लोगों द्वारा फिर से बेचा और खरीदा जाता है। द्वितीयक बाजार वह होता है जहां निवेशक और ट्रेडर्स आपस में ट्रेड करते हैं।

इसके साथ हर आईपीओ में हर तरह के निवेशक के लिए पहले से कुछ रिजर्व्ड शेयर्स निर्धारित किये जाते है जो अलग-अलग पैरामीटर पर निर्भर करता है। इसके लिए निवेशकों के प्रकार की जानकारी यहाँ दी गई है:

निवेशकों को तीन प्रमुख श्रेणियों में वर्गीकृत किया गया है। उनमें निम्नलिखित शामिल हैं:

  1. क्वालिफाइड इंस्टीट्यूशनल बायर्स (क्यूआईबी): ये बड़ी निवेश फर्म, म्यूचुअल फंड, इन्वेस्टमेंट बैंक बैंक, साथ ही कुछ अन्य संस्थान हैं जो सेबी के साथ पंजीकृत हैं। बुक-बिल्ट इश्यू के मामले में 50% से अधिक सिक्योरिटीज इस श्रेणी के लिए आरक्षित नहीं हैं।
  2. रिटेल निवेशक (आरआईआई): ये व्यक्तिगत रिटेल निवेशक हैं जो अधिकतम 2 लाख रुपये से कम के संचयी मूल्य वाले शेयरों के लिए आवेदन या बोली लगाते हैं। बुक-बिल्ट इश्यू के मामले में इस श्रेणी में कम से कम 35% शेयर आवंटित किए जाते हैं और अनिवार्य बुक-बिल्ट इश्यू के मामले में 10% से अधिक नहीं आवंटित किए जाते हैं। फिक्स्ड प्राइस इश्यू के मामले में कम से कम 50% शेयर आवंटित किए जाते हैं। 
  3. गैर-संस्थागत निवेशक: ये QIB और रिटेल निवेशकों के अलावा अन्य निवेशक हैं। इनमें हाई नेट वर्थ इंडिविजुअल्स (HNI) या कॉरपोरेट बॉडीज शामिल हैं। बुक-बिल्ट इश्यू के मामले में निवेशकों के इस वर्ग के लिए कम से कम 15% स्टॉक आरक्षित हैं और अनिवार्य बुक-बिल्ट इश्यू के मामले में 15% से अधिक नहीं।

मार्केट और निवेशकों की जानकारी के बाद जानते है की आईपीओ क्या होता है:

आईपीओ क्या है?

Initial Public Offerings (आईपीओ) पहली बार है जब कोई कंपनी इन्वेस्टर को शेयर जारी करती है। यह तब होता है जब एक निजी कंपनी ‘सार्वजनिक’ जाने का फैसला करती है। एक आईपीओ आम तौर पर फर्म को नई इक्विटी पूंजी (equity meaning in share market) जुटाने में मदद करती है, जिससे कि वह व्यापार की सुविधा के लिए, भविष्य की योजनाओं के लिए, या मौजूदा हितधारकों द्वारा किए गए निवेश का मुद्रीकरण करने के लिए इस्तेमाल कर सके।

आईपीओ से पहले, एक कंपनी के पास बहुत कम शेयरधारक होते हैं। इसमें संस्थापक, एंजेल निवेशक और उद्यम पूंजीपति शामिल हैं। लेकिन एक आईपीओ के दौरान, कंपनी अपने शेयर जनता के लिए बिक्री के लिए खोलती है। एक निवेशक के रूप में, आप सीधे कंपनी से शेयर खरीद सकते हैं और शेयरधारक बन सकते हैं।

अब जिस तरह से स्टॉक मार्केट में किसी भी कंपनी में निवेश करने से पहले उसका मौलिक विश्लेषण (fundamental analysis in hindi) करना ज़रूरी होता है उसी तरह से आईपीओ में निवेश करने से पहले ज़रूरी होता है कि आप किसी भी कंपनी के फाइनेंसियल की जानकारी प्राप्त करें

इसके लिए संस्थागत (institutional) निवेशक, हाई नेटवर्थ इंडिविजुअल (एचएनआई) और जनता, प्रॉस्पेक्टस में शेयरों की पहली बिक्री का विवरण कर सकती हैं। प्रॉस्पेक्टस एक लंबा दस्तावेज है जो प्रस्तावित पेशकशों के विवरण को सूचीबद्ध करता है।

एक बार आईपीओ हो जाने के बाद, कंपनी के शेयरों को एक्सचेंज पर सूचीबद्ध किया जाता है और फिर उन लिस्टेड शेयर खुले बाजार में स्वतंत्र रूप से ट्रेड किये जा सकते है। 

अब बात करते है आईपीओ के प्रकार की


आईपीओ के प्रकार

आईपीओ सामान्यत: दो प्रकार के हैं:

  1. फिक्स्ड प्राइस ऑफरिंग

फिक्स्ड प्राइस आईपीओ को इश्यू प्राइस के रूप में जाना जाता है।  कुछ कंपनियां अपने शेयरों की प्रारंभिक बिक्री के लिए फिक्स्ड प्राइस ऑफरिंग का तरीका निर्धारित करती हैं। और निवेशकों को उन शेयरों की कीमत के बारे में पता चलता है जिन्हें कंपनी सार्वजनिक करने का फैसला करती है।

इश्यू बंद होने के बाद आप शेयर बाजार में शेयरों की मांग का पता लगा सकते है। यदि निवेशक इस आईपीओ में हिस्सा लेते हैं, तो उन्हें यह सुनिश्चित करना होगा कि वे आवेदन करते समय शेयरों की पूरी कीमत का भुगतान करें, जो फिक्स्ड प्राइस कंपनी की तरफ से तय की गई है। 

  1. बुक बिल्डिंग ऑफरिंग

बुक बिल्डिंग के मामले में, आईपीओ शुरू करने वाली कंपनी निवेशकों को शेयरों पर 20% मूल्य बैंड प्रदान करती है। इच्छुक निवेशक अंतिम कीमत तय होने से पहले शेयरों पर बोली लगाते हैं। यहां, निवेशकों को उन शेयरों की संख्या निर्दिष्ट करने की आवश्यकता है जो वे खरीदना चाहते हैं और वह राशि जो वे प्रति शेयर भुगतान करने को तैयार हैं।

सबसे कम शेयर की कीमत को फ्लोर प्राइस के रूप में जाना जाता है और उच्चतम स्टॉक मूल्य को कैप प्राइस के रूप में जाना जाता है। शेयरों की कीमत के संबंध में अंतिम निर्णय निवेशकों की बोलियों द्वारा निर्धारित किया जाता है।


कंपनियां सार्वजनिक क्यों होना चाहती हैं?

कंपनियां अपनी परिस्थितियों के आधार पर अलग-अलग कारणों से सार्वजनिक होना चाहती हैं। अधिकांश विस्तार के लिए पूंजी जुटाने, कर्ज चुकाने, प्रतिभा को आकर्षित करने और बनाए रखने, या संपत्ति का मुद्रीकरण करने आदि। एक कंपनी अपनी सार्वजनिक प्रोफ़ाइल को बेहतर बनाने के लिए भी स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध होना चाह सकती है।

यहाँ पर कंपनी के सार्वजनिक होने के पीछे मुख्य कारण निम्नलिखित है:

  • अपने फण्ड को बढ़ाना
  • मौजूदा निवेशकों को एग्जिट करने के लिए
  • अपनी कंपनी को प्रचलित करने के लिए
  • कंपनी की छवि को बढ़ाने के लिए

कारण जो भी हो यहाँ पर एक नए निवेशक के लिए अति आवश्यक है कि वह कंपनी की सही समझ और पूरी जानकारी के साथ ही निवेश करने का निर्णय ले


आईपीओ कैलेंडर 

एक आईपीओ के लिए आवेदन करने की प्रक्रिया और बीच में विभिन्न प्रक्रियाओं के साथ इसे आपके नाम पर आवंटित करने की प्रक्रिया को आईपीओ टाइमलाइन के रूप में जाना जाता है एंव इसे आईपीओ कैलेंडर के रूप में भी जाना जाता है, इसमें निम्नलिखित उपखंड हैं:

ओपन/क्लोज डेट: ये आईपीओ में बिडिंग प्रोसेस के खुलने और बंद होने की तारीखें हैं। कोई भी इच्छुक निवेशक इन दिनों के बीच आवेदन या बोली लगा सकता है।

आवंटन तिथि: आवंटन तिथि वह होती है जब आईपीओ के शेयर्स आवंटन किए जाते है।

धनवापसी तिथि: धनवापसी तिथि वह होती है, मानलो आपने किसी आईपीओ में आवेदन लेकिन आपको शेयर्स नही मिले। इस कंडीशन में जिस तारिख को आपके लगाए पैसे आपके खाते में वापस आते है उसे धनवापसी तिथि कहते है। 

डीमैट खाते में जमा करने की तिथि: यह विभिन्न कंपनियों के लिए अलग-अलग है, लेकिन यह तब होता है जब आप कंपनी के शेयरों की लिस्टिंग तिथि से पहले अपने डीमैट खाते में लागू आईपीओ शेयरों का क्रेडिट प्राप्त करते हैं।

लिस्टिंग तिथि: इसे आईपीओ लिस्टिंग के रूप में भी जाना जाता है। यह तब होता है जब किसी कंपनी के शेयर आधिकारिक तौर पर संबंधित स्टॉक एक्सचेंजों (द्वितीयक बाजार) पर सूचीबद्ध होते हैं और ट्रेड के लिए उपलब्ध होते हैं।


आईपीओ कैसे खरीदें?

आईपीओ में निवेश करने से पहले आपको कुछ चरणों का पालन करना होगा, ये चरण इस प्रकार हैं।

निर्णय लें :- आईपीओ में निवेश करने के लिए निर्णय लेना पहला चरण है। आप आईपीओ की पेशकश करने वाली कंपनी के रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस का विश्लेषण करके सोच –विचार निर्णय ले सकते हैं। कंपनी का प्रॉस्पेक्टस आपको एक सूचित निर्णय लेने की अनुमति देगा।

पैसे की व्यवस्था करे: आईपीओ प्रक्रिया में अगला कदम आईपीयू के लिए फंड की व्यवस्था करना है। निवेशक अपनी बचत का उपयोग कंपनी के आईपीओ लेने के लिए कर सकता है। एचएनआई निवेशक भी आईपीओ  में निवेश कर सकता हैं। 

डीमैट खाता खोले: – एक डीमैट खाता ऑनलाइन आईपीओ में आवेदन करने के लिए सबसे महत्वपूर्ण आवश्यकता है। डीमैट खाते में शेयरों और अन्य वित्तीय प्रतिभूतियों को इलेक्ट्रॉनिक रूप से रखा जाता है। कई ब्रोकर ऑनलाइन डीमैट खाता खोलने की सुविधा प्रदान करते हैं। यह 100% पेपरलेस प्रक्रिया है।

आईपीओ के लिए आवेदन करे:- ऊपर दिए गए सारे चरण पूरे करने के बाद आप आईपीओ में आवेदन करने के लिए तैयार है। वस आपके पास एक डीमैट खाता (demat account meaning in hindi) होना चाहिए। आप किसी भी ब्रोकर प्लेटफॉर्म के माध्यम से आवेदन कर सकते हैं, भले ही आपका खाता किसी अन्य स्टॉक ब्रोकर के साथ ही क्यों न हो।


आईपीओ के फायदे 

एक सफल आईपीओ बड़ी मात्रा में पूंजी जुटा सकता है, क्योंकि स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध होने से कंपनी के एक्सपोजर और सार्वजनिक छवि को बढ़ाने में मदद मिल सकती है। बदले में, फर्म की बिक्री और लाभ में वृद्धि हो सकती है।

आईपीओ ट्रेडर्स के लिए भी फायदेमंद होते हैं क्योंकि सार्वजनिक रूप से कारोबार करने वाले शेयरों को खरीदना आसान होता है, जो केवल निजी तौर पर ट्रेड करते हैं।

जानिये एक निवेशक के लिए स्टॉक मार्केट में आईपीओ खरीदने के क्या फायदे है:

  1. कम दामों में शेयर खरीदने का मौका 
  2. निवेश करने का एक बेहतरीन अवसर 
  3. पूरी जानकारी के साथ निवेश करना 

निष्कर्ष 

आईपीओ में निवेश करना आमतौर पर एक फायदेमंद विकल्प होता है, लेकिन निवेश करने से पहले आपको निम्नलिखित बातों का ध्यान रखना चाहिए:

  • आईपीओ में निवेश करने से पहले कंपनी, उसकी पृष्ठभूमि, वित्तीय, भविष्य के पहलुओं का अध्ययन करें।
  • आईपीओ लॉकिंग अवधि नोट करें। लॉकिंग अवधि एक ऐसी अवधि है जिसमें आप प्रारंभिक निवेश के बाद शेयरों को बेच या व्यापार नहीं कर सकते हैं।
  • किसी भी आईपीओ में निवेश करने से पहले हमेशा एक निवेश रणनीति की योजना बनाएं।

एक सफल निवेश के लिए आप एक सही शुरुआत कर सकते है जिसके लिए आप स्टॉक मार्केट कोर्स का चुनाव कर सकते है जो आपके निवेश करने के सफर को आसान बना सके


 

Start Learning through Free & Pro Stock Market Courses!

Install Stock Pathsahla and Get Exclusive 20% off on all subscriptions.Use Coupon Code SPWEB20

Install Stock Pathshala App Now

 

error: Oh wait! The content is locked from copying!