Stock Market Me Kitne Sector Hote Hai

जैसे आपके शहर में घरों को अलग-अलग सेक्टर (क्षेत्र) में रखा जाता है, वैसे ही सार्वजनिक रूप से ट्रेडिंग करने वाली कंपनियों को भी अलग-अलग सेक्टर में रखा जाता है। उन्हें अलग-अलग सेक्टर में रखने का आधार होता है कि, वे किस सेक्टर से संबध रखते हैं। अब प्रश्न उठता है कि stock market me kitne sector hote hai?

शेयर बाजार में सेक्टर और उनकी जरूरतों का अंदाजा लगाने के लिए, आइए एक उदाहरण पर विचार करें।

मिथुन एक खास सोसाइटी में एक फ्लैट में रहता है और वह चाहता है कि अन्य लोग उसके घर तक आसानी से पहुंच सके। अब उस सोसाइटी में कई सौ  फ्लैट है, जो एक ही तरह के है । मिथुन अपने फ्लैट को बाकी फ्लैटों से कैसे अलग करेगा?

इस समस्या को हल करने के लिए फ्लैटों के आकार के आधार पर पूरी सोसाइटी को अलग-अलग ब्लॉकों में बांटा जाता है। अब बस उसे अपना फ्लैट और ब्लॉक नंबर बताना होगा और लोगों को उसका घर खोजने में कोई दिक्कत नहीं होगी।

इसी तरह, स्टॉक मार्केट में ट्रेडर्स और इंवेस्टर्स के सामने सबसे बड़ी चुनौती यह है share market me invest kaise karen और इंवेस्टमेंट के लिए स्टॉक कैसे चुनें।

क्योंकि हजारों कंपनियां हैं जो नियमित रूप से पब्लिक ट्रेडिंग करती है। इतनी सारी कंपनियों के बीच कौन सी कंपनी किस उद्देश्य से काम करती है, इसकी पहचान करना एक आसान काम नहीं होता है। यही वजह है कि इन कंपनियों को अर्थव्यवस्था के क्षेत्र के आधार पर अलग-अलग सेक्टर में विभाजित किया गया है।

इंवेस्टर्स को अब केवल अपनी रुचि के सेक्टर का चयन करना होगा और वे उन कंपनियों की लिस्ट प्राप्त कर सकते हैं जो इस सेक्टर से संबंधित हैं।

स्टॉक मार्केट में सेक्टर के प्रकार

अब जब बात आती है stock market me kitne sector hote hai तो उसके लिए ग्लोबल इंडस्ट्री क्लासिफिकेशन स्टैंडर्ड (जीआईसीएस) के अनुसार, भारतीय स्टॉक मार्केट कोकुल 11 प्रमुख सेक्टर में बांटा गया हैं। हम इनमें से प्रत्येक सेक्टर पर हम विस्तार से चर्चा करेंगे। इन  सेक्टर को मोटे तौर पर 4 प्रमुख ग्रुपों या सेक्टर के अंतर्गत बांटा गया है:

1. डिफेंसिव सेक्टर

2. एवरग्रीन सेक्टर

3. साइक्लिक सेक्टर

4. सेंसिटिव सेक्टर

अर्थव्यवस्था के प्रभाव, ब्याज दरों, व्यापार चक्र आदि के आधार पर, इन सेक्टर को आगे 11 प्रमुख वर्गों में विभाजित किया गया है। उचित ज्ञान और समझ हासिल करने से आपको शेयर मार्केट को सीखने में मदद मिलती है।

1. डिफेंसिव सेक्टर

अक्सर, इंवेस्टर्स डिफेंसिव सेक्टर को डिफेंस सेक्टर मान लेते हैं । जिसमें ऐसी कंपनियां शामिल होती हैं जो डिफेंस की सहायता के लिए हथियार बनाती हैं। लेकिन डिफेंसिव सेक्टर पूरी तरह से इससे अलग हैं और उन्हें ऐसा इसलिए कहा जाता है क्योंकि उन्हें विश्वसनीय माना जाता है।

डिफेंसिव सेक्टर के शेयर, मार्केट की स्थितियों की परवाह किए बिना एक स्थिर आय प्रदान करते हैं क्योंकि इन शेयरों की मांग कभी नहीं बदलती है। कुछ रिटर्न सुनिश्चित करने के लिए इंवेस्टर अक्सर मार्केट के कमजोर दौर के दौरान इस सेक्टर की ओर रुख करते हैं।

भले ही डिफेंसिव सेक्टर मार्केट के कमजोर चरण के दौरान भी एक स्थिर कमाई सुनिश्चित करता है, लेकिन यह कम अस्थिरता के कारण बुल मार्केट के दौरान अन्य सेक्टर की तरह बड़ा रिटर्न नहीं देता है। यह सेक्टर मूल रूप से लोरिस्क, लोरिवार्ड मॉडल पर काम करता है।

ये निम्नलिखित क्षेत्र हैं जो डिफेंसिव सेक्टर के अंडर आते है:

  • यूटिलिटीज़ सेक्टर

पानी, गैस और बिजली यूटिलिटीज़ (उपयोगिताएं)  डिफेंसिव सेक्टर में आती हैं । इनकी मांग हमेशा स्थिर रहती है क्योंकि लोगों को हर समय उनकी आवश्यकता होती है। ये बुनियादी आवश्यकताएं हैं और इंसान इन चीजों के बिना जीवित नहीं रह सकता है, यही कारण है कि मार्केट की स्थितियों की परवाह किए बिना, ये इंवेस्टमेंट पर निरंतर रिटर्न देते हैं।

  • हेल्थकेयर सेक्टर

दवाओं या किसी अन्य चिकित्सा उपकरण, अस्पतालों और फार्मास्युटिकल कंपनियों को बनाने के लिए समर्पित कंपनियों के स्टॉक को डिफेंसिव स्टॉक माना जाता है क्योंकि लोगों को हर समय इनकी आवश्यकता पड़ती है, भले ही बाजार कैसा भी व्यवहार करें क्योंकि वे किसी किसी कारण से हेल्थ सर्विस लेते ही है।

  • कंज्यूमर सेक्टर

स्टॉक मार्केट सेक्टर की इस सूची में, तीसरा स्टॉक मार्केट सेक्टर जो डिफेंसिव सेक्टर के अंतर्गतआता है, वह कंज्यूमर स्टेपल्स है। इसमें रोज़मर्रा के उत्पाद जैसे भोजन, पेय पदार्थ और व्यक्तिगत और घरेलू उत्पाद शामिल हैं। इन वस्तुओं की मांग कभी कम नहीं होने वाली है क्योंकि ये जीवित रहने के लिए बुनियादी आवश्यकताओं के अंतर्गत आती हैं।


2. एवरग्रीन सेक्टर

एवरग्रीन सेक्टर एक ऐसा शब्द है जिसका उपयोग स्टॉक मार्केट सेक्टर में वहां पर किया जाता है , जहां लोगों का मानना होता ​​​​है कि  यहां पर लंबी अवधि का विकास जारी रहेगा।  इस खास सेक्टर के प्रोडक्ट्स को उनकी क्षमता और लंबे समय तक लोगों की मांग के आधार पर बांटा जाता है।

उदाहरण के लिए, अपने आप को एक 10 साल का बच्चा मानें जिसे हेलीकॉप्टर वाले खिलौनें पसंद हैं। अब आप 15 वर्ष की ओर तेजी से आगे बढ़ें और जब आप 25 वर्ष के हो जाएंगे तो , क्या आप उन हेलीकॉप्टर वाले खिलौनों से वैसे ही चाह रखेंगे जैसे आप 10 वर्ष की उम्र में उनसे प्यार करते थे? शायद नहीं।

इसका मतलब है कि आपके लिए हेलीकॉप्टर खिलौनें एवरग्रीन सेक्टर के तहत नहीं रखे जा सकते क्योंकि आपके निजी जीवन में उनका महत्व एक पाइंट के बाद कम हो जाएगा। 

इसी तरह, एवरग्रीन सेक्टर के प्रोडक्ट़्स वह प्रोडक्ट्स होते है जिनको भविष्य में भी बहुत उपयोग किया जाएगा और इंवेस्टर्स इन इंवेस्टमेंट से 10-20 साल या उससे भी लंबी अवधि के बाद भी मुनाफा प्राप्त कर सकते हैं।

ये निम्नलिखित कुछ सेक्टर हैं जिन्हें एवरग्रीन सेक्टर के अंतर्गत (अंडर) रखा गया है।

  • इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी सेक्टर

टेक्नोलॉजी में प्रगति के कारण विशेष रूप से इंटरनेट, इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी (आईटी) इंडस्ट्री सबसे तेज दर से विकसित हुई है।

इन दिनों आपका पसंदीदा स्नैक खरीदने से लेकर पेमेंट जैसी जटिल चीज तक, सब कुछ डिजिटल हो रहा है और ये यहीं पर नहीं रुक रहा है।

कोविड-19 महामारी के प्रकोप और प्रसार ने भी इसके विकास में मदद की है। लोग कोविड-19 महामारी के दौरान अपने घरों में आराम से रह कर टेक्नोलॉजी के माध्यम से हर तरह की जानकारी और सामान प्राप्त कर रहे थे। ऑनलाइन डेटा की मांग स्थिर रहने के कारण आईटी सेक्टर के भविष्य में भी केवल ऊपर ही जाने की उम्मीद है।

  • इंफ्रास्ट्रक्चर सेक्टर

भारत जैसे विकासशील देश में बुनियादी ढांचे (इंफ्रास्ट्रक्चर) के विकास की मांग लगातार बनी हुई है। जब आप संयुक्त राज्य अमेरिका या यूके जैसे विकसित देशों में जाते हैं, तो बुनियादी ढांचा वहां पर एक तैयार उत्पाद है और उन्हें इस पर बहुत अधिक ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता नहीं है, लेकिन विकासशील देशों में, यह कार्य निरंतर प्रगति पर है।

इस सेक्टर के तहत सरकार राजमार्गों के निर्माण, रेलवे और हवाई अड्डों के साथ-साथ नवीकरणीय ऊर्जा ( वो ऊर्जा जो उपयोग करने पर भी समाप्त नहीं होती है, जैसे पवन या सौर ऊर्जा ) के विकास पर ध्यान केंद्रित करती है, और भारत जैसे विशाल देश में यह सेक्टर  केवल आने वाले वर्षों में बढ़ने ही वाला है जिसकी वजह से इसे एवरग्रीन सेक्टर की केटेगरी में रखा जा सकता है।

  • एफएमसीजी सेक्टर

फास्ट-मूविंग कंज्यूमर गुड्स सेक्टर के तहत, पैकेज्ड फूड, हाउसहोल्ड प्रोडक्ट्स, कॉस्मेटिक या टॉयलेटरीज़ जैसे दैनिक आधार पर आवश्यक प्रोडक्ट्स को बनाने वाली और डिलिवर्ड के लिए जिम्मेदार कंपनियों को रखा जाता है और इसमें कोई शक नहीं है कि आपको इन प्रोडक्ट्स की आवश्यकता अगले 20 वर्षों में पड़ती ही रहेगी।


3. साइक्लिक सेक्टर

साइक्लिक सेक्टर (चक्रीय क्षेत्र )अपने नाम ही तरह ही उतार-चढ़ाव के चक्र का अनुसरण करते हैं और इस प्रकार ये सेक्टर पूरी तरह से मार्केट की स्थिति पर निर्भर करते हैं। ये सेक्टर डिफेंसिव सेक्टर के बिल्कुल विपरित हैं और इस प्रकार अपने साथ अधिक जोखिम और इनाम लाते हैं।

स्टॉक मार्केट में छोटे से छोटे बदलाव से भी साइक्लिक सेक्टर प्रभावित होते हैं और इसलिए इंवेस्टर्स को इन सेक्टर में इंवेस्ट करने से पहले बहुत सारी जानकारी होनी चाहिए। 11 स्टॉक मार्केट सेक्टर में से केवल दो ही इस सेक्टर के अंतर्गत आते हैं।

  • कंज्यूमर डिस्क्रिशनरी सेक्टर

कंज्यूमर स्टेपल के विपरीत कंज्यूमर डिस्क्रिशनरी सेक्टर, कंज्यूमर (उपभोक्ताओं) को ऐसे शानदार प्रोडक्ट्स प्रदान करने पर केंद्रित है जो बुनियादी जीवन के लिए आवश्यक नहीं हैं। इन प्रोडक्ट्स में कार निर्माण, एयरलाइंस, रेस्तरां और अन्य शानदार चीजें शामिल हो सकती हैं।

इस सेक्टर में शामिल कंपनियां मार्केट के ऊपर होने पर मुनाफा कमाती हैं। जब स्थिर या तेजी के बाजार (बुलिश मार्केट) वाली परिस्थितियां होती है तब कंज्यूमर शानदार वस्तुओं को खरीदना पसंद करते हैं और विभिन्न स्थानों की यात्रा करते हैं। 

लेकिन जैसे ही बाजार नीचे जाता है, ये खर्च पहली चीज हैं जो प्रभावित होती है क्योंकि लोग इन अतिरिक्त लागतों में कटौती करके अपनी तत्काल जरूरतों के लिए बचत करना पसंद करते हैं।

इसलिए, एक इंवेस्टर के रूप में, आप केवल बुलिश मार्केट के दौरान ही साइक्लिक सेक्टर में इंवेस्टमेंट करके मुनाफा कमा सकते हैं।

  • मीडिया और एंटरटेनमेंट सेक्टर

मीडिया और एंटरटेनमेंट सेक्टर में कंपनियों के वे शेयर शामिल हैं जो आम जनता को इनफार्मेशन और एंटरटेनमेंट प्रदान करते हैं। इसे साइक्लिक सेक्टर के अंडर इसलिए रखा गया है क्योंकि लोगों की ये पहली प्राथमिकता नहीं है। जिंदगी जीने के लिए इसकी तत्काल आवश्यकता नहीं पड़ती है और लोग केवल इन प्रोडक्ट़्स को अपने मन के अनुसार इस्तेमाल करते हैं।

इन स्टॉक की वैल्यू में मार्केट की स्थितियों के साथ उतार-चढ़ाव होता है। बाजार में उथल-पुथल के दौर में लोग मनोरंजन सामग्री का उपभोग करने में कटौती करते हैं।


4. सेंसिटिव सेक्टर

सेंसिटिव सेक्टर वे सेक्टर हैं जो बदलती ब्याज दरों के प्रति अत्यधिक संवेदनशील होते हैं। वे डिफेंसिव सेक्टर और साइक्लिक सेक्टर के बीच में आते हैं क्योंकि वे मार्केट में बदलाव से नहीं बल्कि ब्याज दरों से प्रभावित होते हैं।

लीवरेज पर चलने वाले कारोबार या उच्च लाभांश देने वाली कंपनियां सेंसिटिव सेक्टर के कुछ प्रमुख उदाहरण हैं, क्योंकि ये कंपनियां उधार ली गई पूंजी पर काम करती हैं, इसलिए ब्याज दर उनके कामकाज में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

स्टॉक मार्केट के तीन ऐसे सेक्टर हैं जिन्हें सेंसिटिव सेक्टर का दर्जा दिया गया है। इन क्षेत्रों में जोखिम का स्तर मध्यम स्तर का है।

  • ऑटोमोबाइल सेक्टर

ऑटोमोबाइल सेक्टर एक सेंसिटिव स्टॉक मार्केट सेक्टर का एक प्रमुख उदाहरण है क्योंकि उन्हें लाभ कमाने के उद्देश्य से उधार ली गई पूंजी से खरीदा जाता है। अब इंवेस्टर्स को उस उधार के पैसे पर ब्याज देना पड़ता है, यही वजह है कि ब्याज दर में कोई भी उतार-चढ़ाव सीधे तौर पर इंवेस्टर्स के मूड को प्रभावित करता है।

  • कम्युनिकेशन सेक्टर 

कम्युनिकेशन सेक्टर के तहत कंपनियां फोन कॉल, मैसेजिंग और इंटरनेट सेवाएं प्रदान करती हैं, क्योंकि इस क्षेत्र के कामकाजी मॉडल में उच्च लाभांश देना शामिल है, वे अक्सर ब्याज दर पर काफी हद तक निर्भर करते हैं।

उदाहरण के लिए, जब ब्याज की दर बढ़ती है, तो इंवेस्टर इस सेक्टर में अपना पैसा लगाने से हिचकिचाते हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि जोखिम और इनाम एक-दूसरे से मेल नहीं खाते हैं और वे कम जोखिम वाले अन्य सेक्टर में बेहतर मुनाफा कमा सकते हैं।

  • फाइनेंशियल सेक्टर

हम पहले से ही जानते हैं कि स्टॉक मार्केट में फाइनेंशियल सेक्टर क्या है और क्योंकि फाइनेंशियल सेक्टर भी काफी हद तक मार्केट में ब्याज दर पर निर्भर करता है, इसलिए उन्हें भी सेंसिटिव सेक्टर में रखा जाता है।

फाइनेंशियल सेक्टर में बैंकिंग, हाउसिंग फाइनेंस, बीमा कंपनियां और कई अन्य संस्थान शामिल है जो आपके पैसे को संभालने या संग्रहीत करने के लिए जिम्मेदार है। इनमें हाउसिंग फाइनेंस विशेष रूप से, तीव्र दर से बढ़ रहा है और अन्य फाइनेंशियल सेक्टर की तुलना में काफी आराम से बेहतर प्रदर्शन कर रहा है।

फाइनेंशियल सेक्टर को एवरग्रीन स्टॉक मार्केट सेक्टर के तहत रखा गया है क्योंकि लोग इन वित्तीय उत्पादों, विशेष रूप से एनबीएफसी (आवास वित्त सहित) को लोंग-टर्म (दीर्घकालिक) इंवेस्टमेंट ऑप्शन के रूप में देखते हैं।


निष्कर्ष

जिस तरह मिथुन के दिल्ली के सभी घरों को अलग-अलग सेक्टर में विभाजित करने के निर्णय ने उनके घर तक नेविगेट करना बहुत आसान बना दिया, उसी तरह स्टॉक मार्केट एक्सचेंजों में लिस्टेड सभी कंपनियों को अलग-अलग सेक्टर में बांटना भी उन्हें एक अलग पहचान देता है और इंवेस्टर्स के लिए इसे आसान बनाता है। 

कल्पना कीजिए कि आप एक इंवेस्टर है जो भविष्य के लिए अपना पैसा सुरक्षित करने के लिए एवरग्रीन सेक्टर में इंवेस्ट करना चाहते हैं। अब अलग-अलग कंपनियों को देखने के लिए कड़ी मेहनत करने के बजाय, आपको बस एक ऐसी कंपनी ढूंढनी होगी जो आईटी, इंफ्रास्ट्रक्चर, फास्ट-मूविंग कैपिटल गुड्स और फाइनेंशियल सेक्टर के अंतर्गत फिट हो और उसमे निवेश करने के लिए फंडामेंटल एनालिसिस (fundamental analysis in hindi) कर शुरुआत कर सकते हो।

इसी तरह, यदि आप बुलिश मार्केट का अधिकतम लाभ उठाना चाहते हैं, तो आप साइक्लिक सेक्टर की ओर रुख करेंगे और एक ऐसी कंपनी ढूंढेंगे जो इंवेस्टमेंट करने के लिए इसकी परिभाषा के तहत फिट हो।

यहाँ पर stock market me kitne sector hote hai की पूरी जानकारी विस्तार में दी गयी है जो आपको शेयर मार्केट में विश्लेषण और निवेश करने में काफी लाभदायक साबित होती है।

आशा है अब आप शेयर मार्केट में इंवेस्टमेंट की बेहतर समझ हासिल करने के लिए ऑनलाइन स्टॉक मार्केट कोर्स में शामिल हो सकते हैं।


अगर आप स्टॉक मार्केट सीखने को लेकर पूरी जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो नीचे दिए गए फॉर्म में अपनी डिटेल्स भरे और हम आपको कॉल कर आपके सभी तरह के प्रश्नों का उत्तर देंगे

    Before investing capital, invest your time in learning Stock Market.
    Fill in the basic details below and a callback will be arranged for more information:

      Leave a Comment

      Your email address will not be published. Required fields are marked *

      Book Your Free Demo Class To Learn Stock Market Basics
      Book Online Demo Class Now