Trading Kitne Prakar ki Hoti Hai

शेयर बाजार की सबसे अच्छी बात ये है कि आप इसमें अपनी पर्सनैलिटी के अनुसार ऐसी ट्रेडिंग शैली या निवेश चुन सकते है,जो आपके लिए सबसे अधिक उपयुक्त हो। लेकिन , trading kitne prakar ki hoti hai और कौनसा ट्रेडिंग स्टाइल आपके लिए ज़्यादा फायदेमंद है, उसके लिए हम आज हम इस लेख में चर्चा करेंगे।

एक तरफ होती है लॉन्ग टर्म डिलीवरी ट्रेडिंग जो आपके वेल्थ बढ़ाने के लिए महत्वपूर्ण होती है और दूसरी तरफ आता है शार्ट टर्म ट्रेड जो जल्द मुनाफा कमाने के लिए उपयोगी होती है। 

प्रत्येक ट्रेडिंग स्टाइल के अपने फायदे और नुकसान होते हैं। इसलिए, इससे पहले कि आप किसी ट्रेडिंग स्टाइल को चुनें, आपको इन सभी ट्रेडिंग स्टाइल के बारे में गहराई से पता होना चाहिए। अपनी जीवन शैली और लक्ष्य के अनुरूप सही ट्रेडिंग शैली चुनने के लिए खुद को शिक्षित करना भी महत्वपूर्ण है।

आज हम इस लेख में जानेंगे कि trading kitne prakar ki hoti hai, लेकिन ये समझने से पहले हम ये समझ लेते है आखिर ये ट्रेडिंग क्या होती है? तो चलिए शुरु करते है.

ट्रेडिंग क्या है?

ट्रेडिंग अनिवार्य रूप से खरीददार और बेचने वाले के बीच शेयर्स का आदान-प्रदान है। ट्रेडिंग को आसानी से समझने के लिए हम पहले बाजार को समझते है। बाजार वह स्थान है जहाँ व्यापार का कोई भी रूप आकार लेता है। बाजार में बहुत प्रकार के उत्पादों की खरीद विक्री की जाती है। ठीक इसी प्रकार, जिस स्थान पर स्टॉक की खरीद विक्री होती है, उसे शेयर बाजार कहा जाता है।

शेयर मार्केट में आप दो तरह से पैसा लगाते है जिनमें एक है निवेश और दूसरा है ट्रेडिंग। सेम डे या शोर्ट टर्म के लिए शेयर्स की खरीद – बिक्री करने की प्रक्रिया को  ट्रेडिंग कहते है।

trading types in hindi

ट्रेडिंग कितने प्रकार की होती है?

भारत में विभिन्न प्रकार की ट्रेडिंग होती है जिन्हे हम बारीकी से एक–एक समझेंगे। मुख्य रूप से शेयर ट्रेडिंग पांच प्रकार की होती है: 

  1. डिलीवरी ट्रेडिंग 
  2. इंट्राडे ट्रेडिंग 
  3. स्कल्पिंग 
  4. स्विंग ट्रेडिंग 
  5. पोशिनल ट्रेडिंग 

1. Delivery Trading in Hindi 

शुरुआत करते है लॉन्ग-टर्म-डिलीवरी ट्रेडिंग के साथ, यहाँ पर आपका फोकस वेल्थ की और रहता है और आप उन स्टॉक में निवेश करना उचित समझते है जिसमे आप समय के साथ ज़्यादा मुनाफा कमा सकते है। 

डिलीवरी ट्रेडिंग करने के लिए आपको किसी भी कंपनी के फंडामेंटल को समझना काफी ज़रूरी हो जाता है, जिसमे आप कंपनी का इतिहास, परफॉरमेंस, प्रॉफिट/लॉस की जानकारी के लिए बैलेंस शीट (balance sheet in hindi) और अलग-अलग-रेश्यो PE ratio in hindi, Return on Equity (ROE meaning in hindi) आदि की जानकारी प्राप्त करना अनिवार्य होता है। 

डिलीवरी ट्रेडिंग के अंतर्गत आप वैल्यू इन्वेस्टिंग या मोमेंटम इन्वेस्टिंग की दिशा में स्टॉक्स का चयन कर निवेश करने की योजना बना सकते है। यहाँ पर ज़्यादा मुनाफा कमाने के लिए आप डिलीवरी ट्रेडिंग नियमों (delivery trading rules in hindi) का पालन ज़रूर करें

2. Intraday Trading in Hindi 

ट्रेडिंग के इस शैली में एक ही दिन में स्टॉक को खरीदना और बेचना शामिल होता है। इंट्राडे ट्रेडिंग के मामले में, ट्रेडर कुछ मिनटों या घंटों के लिए स्टॉक को होल्ड रखते हैं। इस तरह की ट्रेडिंग में शामिल एक ट्रेडर को दिन के बाजार बंद होने से पहले अपनी पोजिशन को बंद करना होता है। 

इंट्राडे ट्रेडिंग के मामलों में तेजी से निर्णय लेने की क्षमता, बाजार की अस्थिरता (Volatility) की पूरी समझ और स्टॉक प्राइस में उतार-चढ़ाव के बारे में गहरी समझ की आवश्यकता होती है। इसलिए, यह ज्यादातर अनुभवी ट्रेडर्स द्वारा की जाती है। यदि आप स्टॉक मार्केट में नए है तो पूरी समझ और ज्ञान के बाद ही इंट्राडे ट्रेडिंग शुरु करे।

उदाहरण – माना राहुल ने रिलायंस के 50 शेयर्स 2000 रुपयें प्रति शेयर में इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए खरीदे है, अब राहुल को उसी दिन 03:20 PM से पहले अपने रिलायंस के शेयर्स को बेचना होगा, चाहे राहुल नुकसान में हो या फायदे में। अगर राहुल ऐसा नही करता है उसका ब्रोकर पोजिशन को ऑटेमेटिक सैल कर देगा।

इसलिए इंट्राडे ट्रेडर्स को एंट्री के साथ पोजीशन क्लोज भी सही समय में करना काफी ज़रूरी होता है, तो जिस तरह से टेक्निकल एनालिसिस (technical analysis in hindi) स्टॉक को खरीदने के ज़रूरी है उसी प्रकार कब आपको एग्जिट करना उसके बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए आप इंट्राडे ट्रेडिंग इंडिकेटर (best indicator for intraday trading) का इस्तेमाल कर सकते है।

3. स्कैल्पिंग 

स्कैल्पिंग को माइक्रो-ट्रेडिंग के रूप में भी जाना जाता है। स्कैल्पिंग और डे-ट्रेडिंग दोनों ही इंट्राडे ट्रेडिंग हैं। स्कैल्पिंग के मामले में, ट्रेडर अपनी पोजीशन को कुछ सेकेण्ड से कुछ मिनटों के लिए स्टॉक को होल्ड रखता हैं। डे ट्रेंडर की तरह स्कैल्पिंग ट्रेडर को भी दिन के बाजार बंद होने से पहले अपनी पोजिशन को बंद करना होता है। 

स्कैल्पिंग ट्रेंडिग के मामलों में डे ट्रेडिंग से भी ज्यादा तेजी से निर्णय लेने की क्षमता, बाजार की अच्छी समझ और स्टॉक प्राइस में उतार-चढ़ाव की गहरी समझ होनी चाहिए। इसलिए, यह इसे भी ज्यादातर अनुभवी ट्रेडर्स द्वारा किया जाता है। 

उदाहरण – माना राहुल को किसी स्टॉक में ब्रेकआउट, ब्रेकडाउन या कोई जरुरी लेवल ब्रैक होता दिख रहा है और राहुल को लग रहा है कि वह स्टॉक बहुत तेजी से मोमेंटम करने वाला है। इस स्थिति में जैसे प्राइस लेव को ब्रैक करता है राहुल अपनी पोजिशन बना लेता है और कुछ ही मिनटो में प्रॉफिट लेकर निकल जाता है।

स्कल्पिंग का उपयोग ज़्यादातर करेंसी ट्रेडर करते है।

4. स्विंग ट्रेडिंग

स्टॉक मार्केट ट्रेडिंग की इस शैली का उपयोग अल्पकालिक स्टॉक मूवमेंट और पैटर्न को ट्रेड करने के लिए किया जाता है। स्विंग ट्रेडिंग के मामले में, ट्रेडर अपनी पोजीशन को आदर्श रूप से एक से सात दिन के लिए होल्ड रखता हैं।

स्विंग ट्रेडिंग एक ट्रेडिंग तकनीक है जिसका उपयोग ट्रेडर्स स्टॉक खरीदने और बेचने के लिए करते हैं जब ट्रेडर की एनालिसिस भविष्य में एक अपट्रेंड या डाउनट्रेंड की ओर इशारा करते हैं, तो इसी स्थिति में स्विंग ट्रेडर उस स्टॉक में अपनी पोजिशन बनाते है। 

स्विंग ट्रेडिंग में अवसरों का फायदा उठाने के लिए, ट्रेडर्स को अल्पावधि में लाभ कमाने की संभावना बढ़ाने के लिए शीघ्रता से कार्य करना चाहिए।

उदाहरण – माना की आने वाले हफ्ते में रिलायंस की तिमाही रिपोर्ट आने वाली है और कंपनी का आंकलन कर ये अनुमान लगाया जा सकता है की कंपनी को प्रॉफिट ही होगा तो वह पर आप रिलायंस के शेयर में ट्रेड कर उसे 1 सप्ताह से 1 महीने तक होल्ड कर सकते है और अगर कंपनी अपनी रिपोर्ट में प्रॉफिट रिकॉर्ड करती है तो उसका सीधा प्रभाव स्टॉक के प्राइस पर दिखेगा, जिससे आप अपना मुनाफा निर्धारित कर एग्जिट कर सकते है।

5. पोजीशनल ट्रेडिंग

ट्रेडिंग के इस शैली में, पोजीशनल ट्रेडर अपनी पोजिशन को कुछ सप्ताह से लेकर महिनो तक होल्ड रखते हैं। इस तरह की ट्रेडिंग में शामिल एक ट्रेडर थोडी लम्बी अवधि लेकिन एक साल से कम अवधि के लिए ट्रेड प्लान करता है। 

पोजीशनल ट्रेडिंग एक रणनीति है जिसमें लाभ के उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए एक लंबी अवधि के लिए एक ट्रेडिंग पोजीशन आयोजित की जाती है। 

पोजीशन ट्रेडिंग में, एक ट्रेडर की आम तौर पर एक लंबी अवधि की सोच होती है, और शॉर्ट-टर्म के उतार – चढाव के बावजूद, पोजीशनल ट्रेडर लंबे समय अपनी पोजिशन बनाए रखना पसंद करते है। ट्रेडर्स आमतौर पर पोजीशनल ट्रेडिंग करने के लिए दीर्घकालिक चार्ट (साप्ताहिक, मासिक) का उपयोग करते हैं। 

उदाहरण – माना राहुल को अपनी रिसर्च के अनुसार लग रहा है कि एवीसी कंपनी आने वाले महिनो में बहुत अच्छा रिटर्न देने वाली है इस स्थिती में राहुल एवीसी कंपनी शेयर्स में एक पोजीशनल ट्रेड प्लान करता है। 

इन 5 ट्रेडिंग के अलावा दो और तरह के ट्रेड होते है जो आपके होल्डिंग पैटर्न पर निर्भर करती है:

  • BTST 
  • STBT 

6. आज ख़रीदे कल बेचे  (BTST)

जैसा कि नाम से ही पता चलता है, इस प्रकार के ट्रेड में, आप आज किसी स्टॉक को खरीदते हैं और कल उस स्टॉक को बेचते हैं। इसका मतलब है कि ट्रेडर्स आज इस उम्मीद में शेयर खरीदते हैं कि अगले दिन स्टॉक की कीमत बढ़ जाएगी।

फिर अगले दिन जब बाजार खुलता है तो ट्रेडर अपने शेयर बेचता है और लाभ कमाता है। इस प्रक्रिया को BTST कहा जाता है। ऐसा  करने पर आपको शेयरों की डिलीवरी नहीं मिलती है। क्योंकि भारत में शेयर मार्केट T+2 सेटेलमेंट चक्र पर काम करता है।

डिलीवरी और BTST में अंतर है। डिलीवरी में, आपको अपने डीमैट खाते में स्टॉक की डिलीवरी मिलती है। लेकिन क्या होगा अगर डिलीवरी मिलने से पहले आपको कोई बड़ा अवसर मिल जाए?

फिर वहा बीटीएसटी की भूमिका सामने आती है। BTST ट्रेडिंग शैली में, आप किसी भी शेयर को खरीद सकते हैं और उन्हें कल बिना डिलीवरी के भी बेच सकते हैं। BTST का एक फायदा यह भी है कि इसमें आपको कोई DP शुल्क नहीं देना पड़ता है।

7. आज बेचें कल खरीदें (STBT)

यह ट्रेडिंग शैली BTST ट्रेडिंग के बिल्कुल विपरीत है। यहां आप किसी स्टॉक को आज बेच सकते हैं और कल खरीद सकते हैं। लेकिन याद रहे, इक्विटी ट्रेडिंग (equity meaning in share market) में इस प्रकार की ट्रेडिंग की अनुमति नहीं है। 

हालांकि, इसे आप डेरिवेटिव मार्केट (derivatives meaning in hindi) में कर सकते है। इस ट्रेडिंग शैली में, ट्रेडर पहले डेरीवेटिव मार्केट में शेयर्स को बेचता है और फिर वह अपनी शॉर्ट सेलिंग पोजीशन को अगले दिन के लिए आगे ले जाता है और खरीद कर इसे पूरा कर लेता है। 

दूसरे शब्दों में, यदि ट्रेडर को लग रहा है कि एवीसी कंपनी में ख़राब न्यूज़ है या कुछ और जिसकी वजह से ट्रेडर को लग रहा है कि वह स्टॉक कल को गैप डाउन खुलने बाला है इस स्थिती में बह ट्रेडर उस स्टॉक को आज ही सैल कर देता है और फिर कल जैसे ही वह स्टॉक गैप डाउन खुलता है वैसे ही वह ट्रेडर अपनी सैल पोजिशन को खरीद लेता है जिससे की उसे अच्छा मुनाफा होता है। 

लेकिन अगर मार्केट गैप डाउन खुलने की वजाय गैपअप खुल जाता है तो उस ट्रेडर को भारी नुकसान का सामना करना पड सकता है। इस लिए BTST और STBT को रिस्की कहा जाता है। 


निष्कर्ष 

तो यहाँ आपको Trading kitne prakar ki hoti hai की पूरी जानकारी मिलती है, अब बात आती है की आप किस तरह के ट्रेडर है। ये निर्धारित करता है कि आप कितना जोखिम उठा सकते है और आप कितने लम्बे समय तक किसी भी स्टॉक को होल्ड करना चाह रहे है।

उसेक आधार पर आपका विश्लेषण करने का तरीका और रकम जिसके साथ आप निवेश या ट्रेड करना चाह रहे है वह दोनों हे बदल जाएंगे।

इसलिए शेयर मार्केट में ट्रेड करने से पहले निर्धारित करें की आप किस तरह के ट्रेडर है। अब इसकी बेहतर जानकारी के लिए आप stock market classes को join कर सकते है जहाँ पर आपको अनुभवी और PnL verified ट्रेनर से स्टॉक मार्केट सीखने का मौका मिलेगा! 

 

 

Before investing capital, invest your time in learning Stock Market.
Fill in the basic details below and a callback will be arranged for more information:

    Leave a Comment

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    Book Your Free Demo Class To Learn Stock Market Basics
    Book Online Demo Class Now