शेयर मार्केट का गणित

शेयर मार्केट का गणित समझे बिना ही शेयर बाजार में रोज लाखों लोग ट्रेडिंग करते है? लेकिन क्या ये एक सफल ट्रेडर की पहचान हो सकती है?

बिलकुल नहीं!

हर रोज़ नए ट्रेडर्स स्टॉक मार्केट की दुनिया में कदम रखते है इनमे से काफी ट्रेडर्स अच्छा मुनाफा भी कमाते है लेकिन साथ में बहुत से ऐसे ट्रेडर्स है पैसा बनाने की बजाय अपना मेहनत का पैसा शेयर बाजार में गंवा देते है। फिर वह कहते है शेयर बाजार एक जुआ है।

ज्यादातर नए लोग शेयर बाजार में करोड़पति बनने का विचार लेकर आते हैं। और अपना सारा पैसा शेयर बाजार में यही सोचकर लगाते हैं कि बहुत जल्दी ही अमीर बनने बाले है। इसी के चलते वह बिना किसी रिसर्च के गलत शेयर ले लेते है और ये उम्मीद करते है कि शेयर कर प्राइस तो ऊपर ही जायेगा लेकिन कंपनी का शेयर प्राइस घट जाता है और वो अपना सारा पैसा शेयर बाजार में गवा देते हैं।

तो यहाँ पर सबसे बड़ा सवाल आता है की शेयर मार्किट में इन्वेस्ट कैसे करें (share market me invest kaise kare). इसके लिए शुरूआती इन्वेस्टर को काफी पहलूओं के साथ शेयर मार्केट के गणित का पूर्णज्ञान होना चाहिए

तो आज हम इस लेख में शेयर मार्केट का गणित कैसे काम करता है, यह आसानी से समझेंगे।


शेयर मार्केट का गणित क्या है?

शेयर मार्केट का गणित से हमारा तात्पर्य है कि शेयर मार्केट की बुनियादी चीजों को समझना और यह समझना कि शेयर मार्केट क्या है और कैसे काम करता है और सबसे महत्वपूर्ण की आप हम शेयर बाजार में निवेश कैसे करें?

अब आप सोच रहे होंगे की ये क्यों ज़रूरी है तो यहाँ पर आप जानते ही हैं कि अगर कोई डॉक्टर बनना चाहता है तो उसको 4 से 5 साल की पढ़ाई करनी पड़ती है और अगर कोई इंजीनियर बनना चाहता है तो उसको भी 4 साल की पढ़ाई करनी पड़ती है।

वहीं दूसरी तरफ काफी ट्रेडर्स और निवेहक बिना किसी ज्ञान के या कुछ किताबे पढ़कर स्टॉक मार्केट में ट्रेड करना शुरू कर देते है और अंत में काफी नुकसान उठाते है।

तो अगर आप एक सफल ट्रेडर बनना चाहते है तो यहाँ ज़रूरी है की आप उसके लिए अपने स्किल को डेवेलप करे। हो सकता है सीखने में समय लगे लेकिन इसके बाद आप अपने मुनाफे को बढ़ा सकते है और साथ में एक सफल ट्रेडर बनने के सपने को भी भलीभांति पूरा कर सकते है।


How to Use Stock Market Maths in Hindi?

यहाँ पर शेयर मार्केट का गणित आपको निम्नलिखित पहलूओं को समझने में मदद करता है:

  • सबसे ज़रूरी शेयर मार्केट का गणित आपको ये जानने में मदद करता है की किस स्टॉक में आपको कितनी रकम के साथ निवेश करना फायदेमंद हो सकता है
  • इससे आप स्टॉक मार्केट इंडेक्स जैसे की निफ़्टी ५० और सेंसेक्स की जानकारी प्राप्त करने में लाभदायक है
  • इसके साथ सही गणित का इस्तेमाल कर आप अलग-अलग कंपनी के फंडामेंटल को जानने के लिए आपको रेश्यो की गणना करने में  मदद करता है और उसके अनुसार आप निवेश करने का निर्णय ले सकते है।
  • साथ ही ट्रेडर्स के लिए महत्वपूर्ण इंट्राडे ट्रेडिंग फार्मूला दिया जाता है जिससे वह स्टॉक के सपोर्ट और रेजिस्टेंस की जानकारी प्राप्त कर शेयर में सही प्राइस में ट्रेड कर अपने मुनाफा कमाने के मौके को बढ़ा सकता है

इन्ही सब पहलूओं को एक-एक करके जानेंगे और ये भी देखेंगे की शेयर मार्केट गणित का इस्तेमाल कहा-कहा होता है

1. स्टॉक के फंडामेंटल एनालिसिस के लिए

किसी भी स्टॉक में निवेश करने के लिए ज़रूरी है कंपनी के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करना। इसके लिए ज़रूरी है कंपनी की पहले की और बाद में होने वाली ग्रोथ को जानना।

इसके लिए आपको बैलेंस शीट (balance sheet in hindi) और इनकम स्टेटमेंट (income statement) का उपयोग करना होता है जिसके मदद से आप अलग-अलग रेश्यो और कंपनी के प्रॉफिट और लॉस की जानकारी प्राप्त कर सकते है

इन सबके इस्तेमाल होता है गणित

जैसे की उदाहरण के तौर पर अगर हम ROE (ROE meaning in hindi) यानी की रिटर्न ऑन इक्विटी की बात करें तो ये आपको कंपनी की योग्यता के बारे में जानकारी देता है

इसके लिए आप नीचे दिए गए फॉर्मूला का इस्तेमाल कर सकते है:

Return on Equity (ROE) = (Net income / shareholder equity)

इक्विटी (equity meaning in hindi) में निवेश करने से पहले आप जानना चाहेंगे की आप कितना मुनाफा कमा सकते है और उसके लिए रिटर्न ऑन इक्विटी का प्रयोग होता हैइस फॉर्मूला का इस्तेमाल कर आपये जान सकते है की कंपनी आपके इक्विटी इन्वेस्टमेंट को प्रॉफिट में कितने प्रभावी ढंग से बदल सकती है

आप इस जानकारी को प्राप्त करने के लिए कंपनी की बैलेंस शीट और लाभ और हानि विवरण का उपयोग कर प्रतिशत मूल्य में इसकी गणना कर सकते हैं।

यहाँ पर ROE के साथ और भी पैरामीटर की जानकारी प्राप्त कर उसमे निवेश करने की योजना बना सकते है

इसमें एक रेश्यो होता है P/E रेश्यो, जिसके लिए यहाँ पर फॉर्मूला दिया गया है:

Price/Earnings Ratio (P/E) = Market price of Stock/Earnings per share

यह अनुपात आपको यह समझने में मदद करता है कि क्या किसी विशेष कंपनी के शेयर की कीमत बाजार में अधिक या कम है। यह एक साधारण गणना है जो आपको बताती है कि प्रति शेयर आय की तुलना में किसी शेयर की कीमत कितनी है।

पी/ई अनुपात का उपयोग किसी स्टॉक की कीमत की उसी उद्योग के अन्य शेयरों से तुलना करने के लिए किया जाता है।

यहाँ पर मार्केट प्राइस किसी शेयर का बाजार मूल्य शेयर बाजार पर 1 शेयर खरीदने की लागत है और Earning Per Share प्रति शेयर आय कंपनी की वित्तीय रिपोर्ट में दी की गई वार्षिक प्रति शेयर आय की जानकारी देता है।

यदि कंपनी का पी/ई इंडस्ट्री के पी/ई से कम है तो एक निवेशक को इसकी कम कीमत के कारणों की खोज के लिए आगे की जांच करनी चाहिए। उन कारणों के आधार पर, कोई निवेशक इसे खरीदने या बेचने का निर्णय ले सकता है।


2. निवेश का भविष्य मूल्य

अब कोई भी निवेशक ज़्यादा रिटर्न प्राप्त करने के लिए शेयर बाजार में निवेश करते है लेकिन निवेश करने पर उन्हें कितना मुनाफा या रिटर्न प्राप्त होगा उसका विश्लेषण न करने के कारण कई बार उन्हें नुकसान उठाना पड़ता है। 

यहाँ पर अगर आपको पहले से ही स्टॉक के भविष्य मूल्य के बारे में पता चल जाए तो। ऐसा मुमकिन है स्टॉक में सही गणित का इस्तेमाल करके जिसके लिए आप निम्नलिखित फॉर्मूला का इस्तेमाल कर सकते है। इस फॉर्मूला से आप जान सकते है की आपको अपने वित्तीय लक्ष्य तक पहुंचने के लिए हर साल कितनी राशि से निवेश करना है।

F = P * (1 + R)t

यहाँ पर:

  • F = निवेश का भविष्य मूल्य
  • P = निवेश का वर्तमान मूल्य
  • t = कंपाउंडिंग अवधियों की संख्या
  • R = आवधिक ब्याज दर या वापसी की दर

3. कुल रिटर्न की गणना करना 

Total Return = {( Value of investment at the end of the year – Value of investment at beginning of the year ) + Dividends} / Value of investment at the beginning of the year

जहां फ्यूचर वैल्यू (Future Value) आपके निवेश पर अनुमानित रिटर्न की भविष्यवाणी करने के बारे में है, वहीं टोटल रिटर्न आज आपके निवेश पर वास्तविक रिटर्न की गणना के बारे में है। यह एक साधारण गणना है जिसमें डिविडेंड आय भी शामिल है। जाने डिविडेंड मीनिंग इन हिंदी और आगे दिए हुए गणित में जाने की किस तरह से आपके रिटर्न और प्रॉफिट को बढ़ाता है।

उदाहरण के लिए, यदि आपने ₹7,500 में एक शेयर खरीदा है और अब इसकी कीमत ₹8,800 है, तो आपको ₹1,300 का अप्राप्त लाभ है। इस दौरान आपको ₹350 का डिविडेंड भी मिला, तो यहाँ पर कुल रिटर्न:

 = {(₹8,800 – ₹7,500) + ₹350} / ₹7,500 = 0.22 or 22% होगा

ये आप किसी भी अवधि के लिए कर सकते है बस ध्यान रहे की ये इन्फ्लेशन और दूसरे पैरामीटर का आंकलन नहीं करता है और रिटर्न का अनुमान लेने में मदद करता है


4. स्टॉक प्राइस की जानकारी प्राप्त करना 

अगर निवेश या इंट्राडे ट्रेडिंग करने से पहले आप शेयर बाजार में सामान्य मूवमेंट के संबंध में स्टॉक की कीमत का आकलन करना चाहते है तो उसके लिए नीचे दिए गए फॉर्मूला (Capital Asset Pricing Model) का उपयोग कर सकते है।

Stock price = V + B * M

Where,

  • V = स्टॉक का विचरण (Stock’s variance)
  • B = बाजार के संबंध में स्टॉक में कैसे उतार-चढ़ाव (How the stock fluctuates with respect to the market)
  • M = बाजार स्तर (Market level)

5. इंट्राडे ट्रेडिंग फॉर्मूला

जिस तरह से निवेशक स्टॉक की पूरी जानकारी और गणना कर उसमे निवेश करने की योजना बना सकता है, उसी तरह एक स्टॉक ट्रेडर इंट्राडे ट्रेडिंग फॉर्मूला का इस्तेमाल कर स्टॉक की गतिविधियों और मूवमेंट को अच्छे से जान सकता है

इसके लिए दो फॉर्मूला का इस्तेमाल होता है:

  • पाईवोट पॉइंट थ्योरी 

इस फॉर्मूला से आप स्टॉक के एक दिन पहले वाले प्रदर्शन से आने वाली गतिविधियों का पूर्वानुमान लगा सकते है

इसके लिए आपको निम्नलिखित जानकारी प्राप्त करनी होगी जैसे एक दिन पहले का:

    • हाई प्राइस
    • लॉ प्राइस
    • क्लोजिंग प्राइस

इन तीनो डाटा आपको शेयर मार्केट चार्ट से आसानी से मिल जाएंगे, इन वैल्यू को फिर आप नीचे दिए गए फॉर्मूला का इस्तेमाल कर X की वैल्यू और उसको 3 से भाग (divide) कर Pivot Value की जानकारी ले सकते है

H+L+C=X 

X/3 = P  पाईवोट पॉइंट  वैल्यू 

अब स्टॉक का प्राइस अगर पाइवोट वैल्यू से कम है तो एक ट्रेडर ये अनुमान लगा सकता है की शेयर प्राइस अपने पिछले रेजिस्टेंस तक जायेगा, या ब्रेकआउट कर एक नए रेजिस्टेंस लेवल बनाएगा

यहाँ पर रेजिस्टेंस की जानकारी प्राप्त करने के लिए आप P की वैल्यू को 2 से गुना जान सकते है:

P*2 = Y 

प्रथम रेजिस्टेंस स्तर (R1) = Y-L 

द्वितीय रेजिस्टेंस स्तर (R2) = P+(H-L)

उसी प्रकार हम सपोर्ट स्तर भी कैलकुलेट कर सकते हैं। 

प्रथम सपोर्ट स्तर (S1) = Y-H  

द्वितीय सपोर्ट स्तर (S2) =  P-(H-L)


  • फ्रैक्शन थ्योरी 

पाइवोट पॉइंट की तरह  तरह से फ्रैक्शन थ्योरी का इस्तेमाल कर आप सपोर्ट और रेजिस्टेंस की जानकारी प्राप्त कर सकते है 

(H+L+C) * 0.67 = Y 

S = Y-H

R = Y-L

PB = Y – C 


6. कम्पाउंडिंग ग्रोथ को समझना 

स्टॉक मार्केट की गणित को समझने के क्रम में आपके लिए सबसे जरूरी चीज है कंपाउंडिंग ग्रोथ को समझना। कंपाउंडिंग ग्रोथ स्टॉक मार्केट में निवेशकों के लिए कैसे फायदेमंद होता है और क्यों ये सिंपल इंटरेस्ट के मामले में बेहतर है इसे समझने के लिए आपको सिंपल इंटरेस्ट और कंपाउंट इंटरेस्ट के बीच के अंतर को समझना होगा। 

आप में ज्यादातर लोगों को कंपाउंट इंटरेस्ट के बारे में पता होगा यदि पता नहीं है तो हम बताते हैं दरअसल कंपाउंड इंटरेस्ट में आपको इंटररेस्ट नहीं मिलता है बल्कि ये अमाउंट आपके इन्वेस्टमेंट में जुड़ जाता है और फिर अगले साल वो इन्वेस्टमेंट में जुड़ता चला जाता है। इसे एक उदाहरण की मदद से समझ सकते हैं।

माना आपने 10,000 रुपसे का 5 साल के लिए 10 प्रतिशत के ब्याज दर से इन्वेस्ट किए तो सिंपल इंटरेस्ट और कंपाउंड ग्रोथ के बाद आपके हाथ में 5 साल बाद कितने पैसे होंगे?

 सिंपल इंटरेस्ट= 10,000*10*5
= 5000 रुपये

यानी मैच्युरिटी के बाद आपके हाथ में 15,000 रुपये होंगे और आपको यहां 5000 रुपये का फायदा होगा।

यहां हमें ये समझने की जरुरत है कि हर साल जो हमें 10 प्रतिशत का ब्याज मिल रहा है उसका प्रिंसपल अमाउंट यानि मूलधन 10,000 ही है।

लेकिन यही पैसे यदि आपने उस बैंक में लगाए होते जो कंपाउंट इंटरेस्ट देती है तो आपके पास 5 साल के अंत में कितने पैसे होते इसे समझने की कोशिश करते हैं। 

 कंपाउंड इंटरेस्ट= P(1 + r/n) (nt)– P
= 10,000(1+10/100)5 -100
=16386.16-10000
=6386.16
यहां P= निवेश किया गया पैसा, R= Rate of interest, t=period of time

यहां आपको 10,000 रुपये पर 5 सालों के लिए उसी रेट पर 6386.16 रुपया ब्याज के रूप में मिलता है यानि 1386.16  रुपये का सीधा फायदा। ये 1386.16 रुपये का मामूली अंतर तब आया जब आपने 10,000 रुपये लगाए गए। सोचिए जब यह आंकड़ा लाखों में हो तो सिंपल इंटरेस्ट और कंपाउंट इंटरेस्ट में कितना अंतर आएगा?

इसे यदि बड़े कांटेस्ट में देखा जाए तो यह अंतर बढ़ता जाएगा।

 

10 प्रतिशत की दर से 5 सालों के लिए 10,000 का निवेश
5 साल10 साल 15 साल20 साल
प्राप्त ब्याज5,00010,00015,00020,000
कंपाउंट इंटरेस्ट6386.1616850.6433997.962095.68
अंतर1386.166850.6418997.942095.68

यहां आप देख सकते हैं कि जैसे-जैसे साल की संख्या बढ़ती जा रही है अंतर भी उतनी ही तेजी से बढ़ता जा रहा है। 20 साल के बाद यह अंतर बढ़ कर 42,095 तक पहुंच जाता है। इससे साफ पता चलता है कि सिंपल इंटरेस्ट की तुलना में कंपाउंट इंटरेस्ट काफी फायदेमंद होता है।


7. रिटर्न की सम्भावना को मापना 

मनुष्य के अंदर ये टेंडेंसी होती है कि यदि उसे किसी चीज में निश्चित्ता नहीं देखती है तो वो संभावनाओं की तलाश करता है। निवेश में भी लोगों को इसी तरह की समस्या का सामना करना पड़ता है क्योंकि उसमें निश्चित नहीं होता है कि आपको मिलने वाला रिटर्न कितना होगा। 

जब आप किसी स्टॉक में निवेश करते हैं तो आपके सामने यही समस्या होती है, क्योंकि भविष्य में उसका रिटर्न स्टॉक के परफॉर्मेंस पर निर्भर करता है। इसलिए, आप स्टॉक से संबंधित विभिन्न पहलुओं को देखते हैं और उसके जोखिम और रिटर्न के बारे में ट्रेंड के हिसाब से अनुमान लगाते हैं।

यदि शेयर की कीमत 100 रुपये प्रति शेयर है, तो आप इन बातों पर नजर रखते हैं

  • ये अंडरवैल्यूड या ओवरवैल्यूड तो नहीं
  • कंपनी की फाइनेंशियल कंडीशन कैसी है
  • हाल में चुनाव तो नहीं होने वाले है जिससे नीति के बदलाव के कारण शेयर प्राइस में बदलाव देखने को मिले

इस सारी जानकारी के आधार पर आप यह पता लगाने की कोशिश करेंगे कि उक्त निवेश एक अच्छा विचार है या नहीं। मान लीजिए कि कंपनी की वित्तीय स्थिति लगभग 70% अच्छी है (कुछ मामूली मुद्दे हैं लेकिन फिर भी मंदी के दौर में 70 प्रतिशत चांस हैं कि आपको रिटर्न मिलेगा) 

इस स्थिति में क्या आप 10000 रुपये लगाएंगे यदि भविष्य में 20000 होने की उम्मीद 70 प्रतिशत है।

इस सवाल का जवाब तय करता है कि आप किस तरह के निवेशक हैं। यह आपकी निवेशक प्रोफ़ाइल, जोखिम सहनशीलता पर निर्भर करता है, यही चीजें आपको अनुमान लगाने में मदद करता है। 

हां, कोई भी गणितीय फॉर्मूला किसी शेयर के भविष्य की कीमत का सटीक अनुमान नहीं लगा सकता है। केवल संभाव्यता सिद्धांत(  Probability theory) तथ्यों के आधार पर किसी निवेश के जोखिम और प्रतिफल का आकलन करने में आपकी मदद कर सकता है।

मुझे उम्मीद है कि इस लेख ने आपको स्टॉक एक्सचेंज निवेश में गणित की बेहतर समझ बनाने में मदद की होगी। याद रखें, निवेश करने से पहले बाजार की भविष्यवाणी करने की वजाए स्टॉक के बारे में ज्यादा से ज्यादा रिसर्च करें।


मार्केट कैप का गणित

बाजार पूंजीकरण(Capitalization) की तकनीकी परिभाषा, जिसे अक्सर मार्केट कैप कहा जाता है, किसी कंपनी के शेयरधारकों द्वारा रखे गए सभी शेयरों का बाजार मूल्य बाजार पूंजीकरण के रूप में जाना जाता है

इसको कैलकुलेट करने के लिए निम्नलिखित फॉर्मूला का उपयोग कर सकते है:

मार्केट कैप = शेयरों की कुल संख्या X  प्रत्येक शेयर का वर्तमान बाजार मूल्य 

आइए इसे बेहतर ढंग से समझने के लिए एक उदाहरण देखें।

मान लीजिए कि एक कंपनी है जिसके शेयर स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध हैं। अगर कंपनी के पास लगभग 10 लाख शेयर हैं जो शेयर बाजार में वर्तमान में 500 रुपये प्रति शेयर पर ट्रेड कर रहे हैं, उस कंपनी का बाजार पूंजीकरण रु 50 करोड़ होगा। (10 लाख शेयर x 500 रुपये प्रत्येक)।


स्मॉल कैप, मिड कैप और लार्ज कैप कंपनियां

बाजार पूंजीकरण के आधार पर, कंपनियों को तीन अलग-अलग श्रेणियों में वर्गीकृत किया जाता है:

  • स्मॉल कैप 
  • मिड कैप 
  • लार्ज कैप 

स्मॉल कैप, मिड कैप और लार्ज कैप कंपनियां क्या हैं? और लार्ज कैप, मिड कैप और स्मॉल कैप स्टॉक में क्या अंतर है? वर्ष 2017 में, सेबी ने कंपनियों को उनके मार्केट कैप के अनुसार वर्गीकृत करने के लिए कुछ नियम निर्धारित किए। यह निवेश और व्यापार के संदर्भ में स्टॉक बाजारों में एकरूपता बनाए रखने के इरादे से किया गया था।

आइए इन्हे जाने…..

स्मॉल कैप :- स्मॉल-कैप बह कंपनियां होती जिनकी मार्केट कैप 5,000 करोड़ रुपये से कम है।

मिड कैप :- मिड-कैप बह कंपनियां होती जिनकी मार्केट कैप 5,000 करोड़ रुपये से 20,000 करोड़ रुपये के बीच होता है।

लार्ज कैप :- लार्ज-कैप बह कंपनियां होती जिनकी मार्केट कैप 20,000 करोड़ रुपये या उससे अधिक है।


निष्कर्ष

स्टॉक मार्केट का गणित सिर्फ स्टॉक का विश्लेषण करते हुए ही नहीं बल्कि निवेश करने के बाद रिटर्न की कितनी सम्भावना है और तय की हुई अवधि में आप कितना रिटर्न कमा सकते है उन सबके लिए इस्तेमाल होता है

तो अगर आप स्टॉक मार्केट में निवेश करना चाहा रहे है तो StockPathshala App में स्टॉक मार्केट का कोर्स (stock market course in hindi) ले सकते है जिसके माध्यम से आप सभी बेसिक और एडवांस पहलूओं को समझ शेयर मार्केट में निवेश कर ज़्यादा मुनाफा कमा सकते है


 

Start Learning through Free & Pro Stock Market Courses!

Install Stock Pathsahla and Get Exclusive 20% off on all subscriptions.Use Coupon Code SPWEB20

Install Stock Pathshala App Now

 

error: Oh wait! The content is locked from copying!